पृष्ठ

शुक्रवार, 22 मार्च 2013


लड़की:- सेजरिया पय आय के पर्दा उठाउब।।
बताउब हे राजा तोहके बताउब।।

लड़का:- फुलवरिया से लाय के फुलवा लगाउब।।
बताइब हे गोरी तोहके बताइब।।

लड़की:- देख के सुरतिया मन लाल्चावा।
बड़ी खूब सूरत हमका बनावा।।
हथवा पसार के तोहका बोलाउब।।

लड़की:- सेजरिया पय आय के पर्दा उठाउब।।
बताउब हे राजा तोहके बताउब।।

लड़का:- बड़ी धमधूसर तोहरी उमरिया।।
मेलवा म तोहसे लड़ी जब नजरिया।।
हथवा से गलवा तोहार सोह्राउब।।
बताइब हे गोरी तोहके बताइब।।

लड़की:- सोलह साल की भयी जवानी।।
कभो न मच्लिस आँख।।
मौक़ा मिले पय जोर अज्माउब।।
बताइब हे गोरी तोहके बताइब।।


4 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी यह बेहतरीन रचना बुधवार 27/03/2013 को http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जाएगी. कृपया अवलोकन करे एवं आपके सुझावों को अंकित करें, लिंक में आपका स्वागत है . धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहोत नीक बना बा! ठका ढोल मंजीरो साथे गाय के इक ठो कैसिट बनवाय लेया।
    भगवान से प्रार्थना बा कि तोका होली पर खूब खुशी देंय!
    http://voice-brijesh.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं

  3. बहुत खूब .सुन्दर प्रस्तुति. आपको होली की हार्दिक शुभ कामना .



    ना शिकबा अब रहे कोई ,ना ही दुश्मनी पनपे गले अब मिल भी जाओं सब, कि आयी आज होली है
    प्रियतम क्या प्रिय क्या अब सभी रंगने को आतुर हैं हम भी बोले होली है तुम भी बोलो होली है .

    उत्तर देंहटाएं
  4. thanks all of u... agarwal mam aap kabhi bhi koi kavita jo mai post karta hoo. aap apane site par daal sakti.. 9871089027

    उत्तर देंहटाएं