पृष्ठ

शुक्रवार, 26 फ़रवरी 2010

होली है भाई होली है॥ समस्त जानो को हमारी तरफ से होली की शुभकामनाये..

सतरंगी ई तोहरी चुनरिया॥

कहवा डाली रंग॥

प्रेम रुपी पी मदिरा हम॥

ऊपर से पी भंग॥

कहा हम रंग डाली॥

कहा तोहका तन्कारी॥

आवा रंग लगावा॥

होली माँ उधम मचावा॥

होली है भाई होली है॥

बुरा न मानो होली है॥

मनमौजी की टोली है॥

होली है भाई होली है॥

2 टिप्‍पणियां:

  1. होली आती है और लाती है सपने रंग-बिरंगे...
    आपके सपनो को करे सच
    और हो जाए आप मस्त...
    मेरी है यही शुभकामना होली के इस अवसर पर

    उत्तर देंहटाएं